आरती श्री गोवर्धन महाराज जी क़ी

shri-govardhan

आरती श्री गोवर्धन महाराज जी क़ी

shri-govardhan

Shri Govardhan Aarti

श्री गोवार्धर महाराज महाराज
तेरे माथे मुकुट विराजे रहो।

टोपे पान चढे दूध क़ी धार,
ओ धार। तेरे माथे…
तेरे कानन में कुंडल सोहे,
तेरे गले वैजयंती माल।

तेरे माथे…तेरी सात कोस क़ी परिकम्मा,
तेरी दे रहे नर और नार। तेरे माथे…
तेरे मानसी गंगा बहे सदातेरी माया अपरम्पार।

तेरे माथे…ब्रज मंडल जब डूबत देखा,
ग्वाल बाल जब व्याकुल देखे,लिया नख पर गिर्वर्धार।

तेरे माथे…वृन्दावन क़ी कुञ्ज गलिन में,
वो तो खेल रहे नंदलाल तेरे माथे…

चन्द्रसखी भजवाल कृष्ण छवि,
तेरे चरणों पै बलिहारी। तेरे माथे…


 

Related Post
गोवर्धन पूजा कविता, Govardhan Puja Kavita or Poem... गोवर्धन पूजा कविता, Govardhan Puja Kavita or Poem गोवर्धन पूजा कविता हे! काह्ना तेरी लीला अ...
Govardhan Puja Vidhi Shayari in hindi, गोवर्धन पूज... गोवर्धन पूजा शायरी, Govardhan Puja Vidhi Shayari in hindi गोवर्धन पूजा विधि Govardhan Puja Vidh...

Leave a Reply